How to earn money from mutual funds. म्यूचुअल फंड क्या होता है? 2022 ehindigyan

How to earn money from mutual funds. म्यूचुअल फंड क्या होता है? 2022

How to earn money from mutual funds.

यदि आप सुरक्षित इन्वेस्टमेंट करना चाहते हैं और आपके पास बाजार की जानकारी और समय नहीं है तो म्यूचुअल फंड पैसा कमाने का अच्छा और आसान तरीका है। जिनको नहीं पता वो लोग शेयर मार्केट और म्यूचुअल फंड को एक ही समझते हैं और इसमें इन्वेस्ट करने से डरते हैं। वैसे तो ये दोनों ही बाजार का हिस्सा है पर इन में बहुत अंतर है। म्यूचुअल फंड शेयर मार्केट की तुलना में बहुत सेफ इन्वेस्टमेंट है।

म्यूचुअल फंड क्या होता है? how to make money from mutual funds in india

चलिए समझते हैं म्यूचुअल फंड क्या होता है। यह कैसे काम करता है, आसान शब्दों में कहें तो म्यूचुअल फंड बहुत सारे लोगों के पैसों से बना एक फंड होता है। यहाँ एक अनुभवी फंड मैनेजर नियुक्त होता है, जो फंड के पैसों को मैनेज करता है और फंड को सुरक्षित तरीके से मैक्सिमम प्रॉफिट कमाने के लिए एक ही जगह इन्वेस्ट ना करके थोड़ा-थोड़ा, अलग-अलग जगह इन्वेस्ट करता है। आपको बता दें कि म्यूचुअल फंड स्कीम का संचालन एसेट मैनेजमेंट कंपनियों द्वारा किया जाता है। आसान शब्दों में ऐसेट मैनेजमेंट कंपनी को फंड हाउस भी कहा जाता है। यह वे कंपनी होती है, जो लोगों का पैसा एकत्रित करके म्यूचुअल फंड चलाती है। म्यूचुअल फंड या ऐसेट मैनेजमेंट कंपनी भारत सरकार की संस्था से भी सिक्योरिटी एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया के अंतर्गत रजिस्टर होती है। भारत में बाजार को नियंत्रित करने और निवेशकों के पैसों को सुरक्षित रखने का काम सेबी द्वारा किया जाता है। जिसका पूरा नाम भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड है।

म्यूचुअल फंड कैसे काम करता है? mutual fund calculator 

आपने जाना कि म्यूचुअल फंड क्या होता है। इसके बाद हम जानेंगे कि म्यूचुअल फंड कैसे काम करता है।
जैसा कि आपको पता है ऐसेट मैनेजमेंट कंपनियां ही म्यूचुअल फंड स्कीम चलाती है। मान लीजिए पांच लोगों ने  ₹10,000 म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट किया है। अब यहाँ फंड मैनेजर इन ₹50,000 को अपनी टीम के साथ रिसर्च करके, इस पैसे को थोड़ा-थोड़ा एवं अलग-अलग जगह पर डाइवर्सिटी तरीके से इन्वेस्ट करेगा। कुछ पैसा शेयर मार्केट में लगा दिया, कुछ कॉर्पोरेट बॉन्ड में, कुछ गोल्ड में, कुछ रियल एस्टेट में, कुछ एफडीज में, कुछ सिक्युरिटीज़ में, इसी तरह डाइवर्सिटी तरीके से फंड का पैसा ज्यादा मुनाफा कमाने के लिए इन्वेस्ट किया जाता है। यदि कहीं लॉस होता है, तो दूसरी जगह प्रॉफिट आ जाता है और ऐवरेज आउट अच्छा निकल जाता है। खैर इसमें लॉन्ग टर्म इन्वेस्ट किया जाए तो इसमें 20% से ज्यादा का रिटर्न देखने को मिल सकते हैं। अब यहाँ म्यूचुअल फंड कंपनियां प्रॉफिट का कुछ परसेंटेज खुद रखती है और प्रॉफिट का ज्यादा हिस्सा निवेश को देती है।

म्यूचुअल फंड कितने प्रकार के होते हैं?

म्यूचुअल फंड को कई कैटेगरी में बांटा जा सकता है। हम यहाँ आपको मुख्य ऐसेट क्लास बेस म्यूचुअल फंड के बारे में बता रहे हैं। इसकी मुख्य तीन कैटिगरीज है।

इक्विटी म्यूचुअल फंड

इक्विटी म्यूचुअल फंड में आपका पैसा स्टॉक मार्केट यानी शेयर मार्केट में इन्वेस्ट किया जाता है। इसमें रिटर्न अच्छा मिलने का चांस होते हैं, पर मार्केट डाउन होने की वजह से रिस्क भी ज्यादा रहता है। यहाँ आपका रिटर्न शेयर मार्केट के परफोर्मेंस पर डिपेंड करता है। शोर्ट टर्म इनवेस्टर्स के लिए ये प्लान अच्छा नहीं है। लेकिन लॉन्ग टर्म इनवेस्टर आपको अच्छा रिटर्न मिल सकता है यदि आप 5 साल के लिए या इस ज्यादा समय के लिए इन्वेस्ट करना चाहते हैं तो यह एक अच्छा ऑप्शन है।

Debt म्यूचुअल फंड

यदि आप म्यूचुअल फंड में ज्यादा रिस्क नहीं लेना चाहते हैं और म्यूचुअल फंड सिर्फ करना चाहते हैं, तो इस में फंड में पैसा लगा सकते हैं। Debt मुचुअल फंड का पैसा इन्वेस्ट किया जाता है, गवर्नमेंट बॉन्ड में, कॉर्पोरेट बॉन्ड में, सिक्युरिटीज़ बॉन्ड में, मनी मार्केट में, ईटीसी। इसमें यदि आप जितने समय के लिए चाहें पैसा लगा सकते हैं। इसमें कोई समय की बाध्यता भी नहीं है। आप जब चाहें इसमें से पैसा निकाल भी सकते हैं। इसको हम मिड टर्म प्लान कह सकते हैं। यदि आप 3 से 5 साल के लिए इन्वेस्ट करना चाहते हैं तो ये आपके लिए एक अच्छा ऑप्शन है।

हाइब्रिड म्यूचुअल फंड

हाइब्रिड म्यूचुअल फंड को इक्विटी म्यूचुअल फंड और डेट म्यूचुअल फंड का मिक्सचर भी कह सकते हैं। इसमें आपका पैसा दोनों जगह इन्वेस्ट किया जाता है मतलब इस फंड का पैसा शेयर मार्केट में भी, Government Bond में भी, कॉर्पोरेट बॉन्ड में भी, मनी मार्केट में, सिक्युरिटी बॉन्‍ड में, गोल्ड में आदि सभी में इन्वेस्ट किया जाता है। ये Debt मुचुअल फंड से थोड़ा ज्यादा रिस्की और इक्विटी म्यूचुअल फंड से कम रिस्की होता है। इसको शोर्ट टर्म इन्वेस्टमेंट के लिए बनाया गया है। इसमें आप 1 या 2 साल के लिए या अपनी इच्छा अनुसार इन्वेस्ट कर सकते हैं।

म्यूचुअल फंड के फायदे advantages of mutual funds

  • प्रोफेशनल मैनेजमेंट, म्यूचुअल फंड में आपका पैसा, एक्सपीरियंस होल्डर, प्रोफेशनल फंड मैनेजर द्वारा उनकी पूरी टीम के साथ रिसर्च करने के बाद डाइवर्सिटी तरीके से अलग अलग जगह इन्वेस्ट किया जाता है।
  • ये लोग किसी काम के लिए डेडिकेटेड होते हैं।
  • ये फाइनैंस ऐंड इकनॉमिक्स के एक्स्पर्ट होते हैं।
  • इनको बाजार की समझ होती है। ये हर टाइम बाजार पर नजर बनाए रखते हैं। जिससे आपका पैसा सही जगह इन्वेस्ट होता है और आपको अच्छा रिटर्न मिलता है।
  • म्यूचुअल फंड में निवेश शुरू करने के लिए आपको हज़ारों लाखों रुपये की जरूरत नहीं होती है। इसमें आप अपनी इच्छा अनुसार एकमुश्त अमाउंट जमा करके या फिर कम से कम ₹500 महीना देकर जीतने समय के लिए चाहे इन्वेस्ट शुरू कर सकते हैं।
  • इसमें आप अपनी सुविधानुसार मंथली एसआईपी मतलब सिस्टेमैटिक इन्वेस्टमेंट प्‍लान ले सकते हैं जो मिनिमम ₹500 महीना से शुरू होता है।
  • इसमें आप बंधे नहीं है इसमें ऐसे प्लान भी होते हैं जिनमें आप जीतने समय के लिए चाहे पैसा इन्वेस्ट कर सकते हैं और जब चाहे निकाल भी सकते हैं और जब चाहे अपनी सुविधानुसार इन्वेस्टमेंट की अमाउंट को बढ़ा भी सकते हैं इसमें अगर लॉन्ग टर्म इन्वेस्ट किया जाए तो आपको 20% से ज्यादा का रिटर्न देखने को मिल सकते हैं।

म्यूचुअल फंड में निवेश कैसे शुरू करें investing in mutual funds for beginners

आज कल म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट करना बहुत ही आसान हो गया है आप अपने मोबाइल से भी इन्वेस्ट शुरू कर सकते हैं। आजकल मार्केट में काफी सारे मोबाइल ऐप अवेलेबल हैं जिनका म्यूचुअल फंड कंपनियों से टाइअप होता है। ये बहुत ही आसान होता है। ऐप पर आपको अपने डॉक्यूमेंटेशन और फोटो अपलोड करना होता है यानी अपनी केवाईसी करनी होती है और स्टेप बाइ स्टेप ऑनलाइन पेमेंट कर कर आसानी से म्यूचुअल फंड प्लान ले सकते है। इसके लिये काफी सारे एप्प मार्केट में उपलब्‍ध हैं। इसके अलावा कुछ बैंक और कंपनियां भी म्यूचुअल फंड चलाती है जैसे एसबीआई, आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल, एचडीएफसी, रिलायंस, कोटक महिन्द्रा, फ्रेंकलिन आदित्य बिड़ला ग्रुप आदि। तो यदि आपको म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट करना हैं तो आप आसानी से ऑनलाइन इन्वेस्टमेंट शुरू कर सकते हैं या आप इनके ऑफिस में विजिट कर कर इनसे संपर्क कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.